बहुत बार देखा गया है कि आपकी आपके पार्टनर के साथ नहीं बनती। कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनके नाम आपस मे मैच नहीं करते। आपस में लड़ते झगड़ते जिंदगी बीत जाती है।

जब दो लोगों के बीच किसी प्रकार की मित्रता नहीं थी फिर भी पहली मुलाकात के पश्चात ही वे एक दूसरे के प्रति आकर्षित हो जाते हैं। आपने कितनी बार ऐसा होते देखा है ? अर्थात पहली मुलाकात ने कितने जोड़ों को एक कर दिया।

नाम से कुंडली मिलान

अनिल और नीता में वास्तविक प्रेम था परन्तु जब अनुज जो अनिल का मित्र था उसे देखते ही स्माइल करती थी। नीता अनिल की अपेक्षा अनुज से अधिक खुश हो कर बात करती थी। बाद में हुआ ये कि अनिल को गुस्सा आ गया और झगड़ा बढ़ गया। अनिल और नीता एक दूसरे से अलग हो गए परन्तु जिस बात का अनिल को डर था वही हुआ भी।

बाद में दोनों की शादी हुई तो ग्यारह महीने के बाद तलाक हो गया। अनिल ने नीता से शादी की और आज तक दोनों में पहले जैसा प्रेम है। अनिल और नीता जीवन की सच्चाई हैं।

अनिल और नीता के नाम के स्पेलिंग कुछ इस तरह थे.
और अनुज के नाम के स्पेलिंग नीता के नाम से अधिक मेल खाते थे। परंतु जब तक नीता और अनुज केवल मित्र थे आकर्षण तभी तक था। जब दोनों की शादी हुई तो यह आकर्षण गायब हो गया क्योंकि नीता और अनुज की जन्म तारीख एक दूसरे के प्रति मेल नहीं रखती थी।

अंक ज्योतिष और जन्म तारीख से कैसे हो मिलान

आइए अब बताते हैं कि अंक ज्योतिष और जन्म तिथि कैसे काम करती है। हर नाम का एक नंबर होता है और हर जन्म की तारीख का भी एक नंबर होता है। जब ये दोनों एक-दूसरे के अनुकूल होते हैं तो भाग्य आपका साथ देता है। एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के लिए यह तब काम करता है जब वे एक-दूसरे के साथ संबंध में होते हैं। जब संबंध स्थायी संबंध की ओर ले जाता है तो यह अपने गणित के साथ काम करता है। इस गणित की गणना अंक ज्योतिष विशेषज्ञ ज्योतिषियों द्वारा की जाती है। इसे आप भी सीख सकते हैं परंतु स्वयं पर आजमाने के लिए आपको अनुभव की आवश्यकता होगी। सटीकता के लिए विशेषज्ञ से संपर्क करें।

आकर्षण और प्रेम मे फर्क होता है

आकर्षण होना आम बात है परन्तु कम्पेटिबल होना आम नहीं है। ये हर घर की कहानी है। हर किसी के साथ ये होता है। ऐसा हो सकता है कि कोई व्यक्ति पहली मुलाक़ात मे अच्छा लगे परंतु यह अस्थायी संबंध होता है । एक बार प्रेम संबंध या दोस्ती रिश्ते मे बदल जाती है तो आपके मेलापक की प्रक्रिया शुरू हो जाती है जिसमे आप सफल या असफल रह सकते हैं।

एक रिश्ते मे विश्वास और सामंजस्य, त्याग्ग, समर्पण की भावना हो तो रिश्ते लंबे चलते हैं। सहनशीलता के अभाव मे एक थप्पड़ से भी तलाक हो जाता है। और यह सब कुछ निर्भर करता है विवाहित जोड़े के नाम मिलान और जन्म तारीख या कुंडली मिलान पर।

सारांश

यदि किसी वजह से आपके रिश्तों मे आकर्षण की कमी है तो इसके सरल उपाय हो सकते हैं। आपने देखा होगा भारतीय समाज मे कुछ लोगों ने शादी के बाद अपनी पत्नी का नाम बदल दिया। वैसे तो लड़की का सरनेम बदल जाने से नाम मे परिवर्तन अपने आप आ जाता है परंतु फिर भी लोग इस तरह से अपने रिश्ते को मजबूत रखना चाहते हैं। रिश्ते को मजबूत रखना आवश्यक है फिर चाहे इसके लिए आप ज्योतिष का सहारा लें या फिर स्वयं अपने भीतर इच्छा शक्ति पैदा करें दोनों ही माध्यम कारगर हैं

Categories: Horoscope

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder